GDP KYA HAI

GDP

GDP का FULL FORM होता हैं , GROSS DOMESTIC PRODUCT और इसे हिंदी में सकल घरेलू उत्पाद कहते हैं .

अक्सर आप लोग इसे टीवी चैनलों और समाचार पत्रों में सुनते व देखते है कि GDP कितनी बढ़ गई है या घट गई हैं .

GDP किसी भी देश की आर्थिक अर्थव्यवस्था को जानने का एक महत्वपूर्ण पैमाना हैं, इसलिए हर एक भारतीय को इसके बारे में जरुर जानना चाहिए .

जीडीपी –

यदि किसी भी तय समय में जैसे 1 साल में देश के भीतर तैयार होने वाले उत्पाद और सेवा को मिला दिया जाये और इसकी कीमत बाज़ार के हिसाब से लगा दिया जाये तो इस प्रकार उत्पाद और सेवाओं के उत्पादन की कुल कीमत को ही उस देश की अर्थव्यवस्था की GDP कहते हैं .

सरल शब्दों में, 1 साल में किसी देश में होने वाला कुल उत्पादन या PRODUCTION, GDP कहलाता हैं .

मान लीजिये किसी देश में एक साल में 100 मोबाइल फोन बने और बिकें और प्रत्येक मोबाइल की कीमत 1000 हैं .

अब 100 X 1000 = 100000

यहाँ जीडीपी हुई 1 लाख रूपये.

जीडीपी मुख्य रूप से तीन चीजों पर आधारित होती हैं,कृषि (AGRICULTURE), उद्योग(INDUSTRY), और सेवा(SERVICE). इन तीनों क्षेत्रों में उत्पादन के बढ़ने और घटने के औसत के आधार पर जीडीपी की गणना की जाती हैं .

भारत में जीडीपी की गणना प्रत्येक तिमाही की जाती है. जीडीपी में सिर्फ उन्ही उत्पादन और सेवाओं को शामिल किया जाता है , जो देश के भीतर स्थित हो .

जीडीपी में उत्पादन का अंतिम मूल्य लिया जाता हैं, जैसे एक मोबाइल की कीमत 1000 रूपये हैं और यह बाज़ार में बिकने तैयार है. 1000 रूपये उत्पाद का अंतिम मूल्य हुआ,जिसे जीडीपी में शामिल किया जायेगा और यह मोबाइल अलग अलग भागों से मिलकर बनता है, इन भागों की कीमत भी अलग अलग होती है लेकिन जीडीपी में इन भागों की कीमतों को शामिल नही किया जाता हैं. सिर्फ अंतिम मूल्य मोबाइल की कीमत 1000 को ही शामिल किया जायेगा.

 

 

 

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *